• इस बार राम नवमी पर ठीक वैसे ही नक्षत्र व संयोग बन रहे हैं जैसे भगवान राम के पैदा होने के समय बना था। ऐसा संयोग सालों में एक बार आता है। 

    नक्षत्रों के इस अनोखे संयोग पर यदि भगवान राम की पूजा-अर्चना की जाए तो अत्यधिक पुण्य मिलेगा। पद-प्रतिष्ठा के साथ ही आर्थिक लाभ होगा। कई दिनों से रुके कार्य आसानी से निपट जाएंगे।

    पुनर्वसु नक्षत्र, पुष्य योग व सर्वार्थसिद्धि योग 

     अगस्त संहिता में उल्लेख है कि चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की नवमी को मध्यान्ह काल में दशमी युक्त नवमी में पुनर्वशु नक्षत्र में भगवान राम का जन्म हुआ था। शास्त्रों में यह भी बताया गया है कि जब भी ऐसा संयोग बनता है तो वह रामनवमी अत्यधिक पुण्य प्रदान करने वाली होती है। 

    1 अप्रैल रविवार को सुबह 9 बजकर 12 मिनट पर पुनर्वसु नक्षत्र है और नवमी तिथि दोपहर 2 बजकर 07 मिनट तक है। इसके बाद दशमी तिथि लग जाएगी। इसी दिन रवि पुष्य योग भी है और सर्वार्थसिद्धि योग का भी संयोग है। यह स्थिति ठीक वैसी ही बन रही है जैसी भगवान राम के जन्म के समय थी। 

    यह संयोग पुण्य प्रदान करने वाला और भगवान राम की पूजा करके समस्त सिद्धियों को प्राप्त करने वाला है। रामनवमी के दिन इस संयोग में भगवान राम की पूजा करने से जीवन में पद व प्रतिष्ठा तो हासिल होगी ही, साथ ही शुक्र के स्वयं की राशि में होने तथा शनि के उच्च के होने से आर्थिक स्थिति भी मजबूत होगी।

    Posted by jabalpurguide @ 11:50 AM

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>

Powered By Indic IME